संसारमोचक प्रेत वत्तू वर्णना (पुनर्जन्मातर विमोचन की कहानी।) (Petavatthu Hindi translation)

पुनर्जन्मातर विमोचन की कहानी।

जब भगवान बुद्ध  वेलुवन विहार  में प्रवास कर रहे थे, उन्होंने यह कहानी सुनाई।

मगध  में इट्ठकावती  नामक गाँव और दीगरट्टी गाँव में कई लोग रहते थे, जिन्होंने पुनर्जन्मातर विमोचन की गलत फ़हमी रखथे तें।  और बहुत पहले कुछ  एक महिला का ऐसे ही एक परिवार में पुनर्जन्म हुई थी । ऐसी गलत फ़हमी से कई भृंगों और टिड्डों को मारकर वह मरने पर एक प्रेती जन्म लेने के बाद  ५००  वर्षों तक  भूख और प्यास दुख सहन करना पड़ी  । अब हमारा भगवान बुद्ध  तब राजगृह में था, जब वह एक बार फिर उसी परिवार में  इट्ठकावती में पैदा हुई थी। और जब वह ७ -८  साल हुई, एक दिन  गाँव के फाटक के पास ऊँची सड़क पर अन्य लड़कियों के साथ खेल रही थी, तब १२  भिक्षुओं के साथ आदरणीय सारिपुत्त वहाँ से गुजरे और लड़कियों ने उन्हें प्रनाम  करने के लिए जल्दबाजी की। लेकिन वह अश्रद्धापूर्वक वहीं खड़ी रही। फिर सारिपुत्त थेर  ने उनकी  अतीत और भविष्य को समझते हुए और सहानुभूति के साथ अन्य लड़कियों के प्रति उसके रवैये पर टिप्पणी की। उन्होंने उसका हाथ पकड़  लिया और भनतेजी को  श्रद्धांजलि देने के लिए खींच लिया। बाद में प्रसव में मरते हुए वह फिर से प्रेतलोक  में जन्म लीया । और वह रात को सारिपुत्त थेर के पास  प्रकट हुई, और  थेर ने कहा:

१ . “नग्न और घृणित रूप में, आप दुर्बल और दिखाई देने वाली नसों के साथ हैं।। आप पतले हैं, आपकी पसलियों के साथ खड़े हैं, अब आप कौन हैं,आप यहां क्यों हैं?”

प्रेती :

२. “आदरणीय महोदय, मैं एक प्रेती हूं, यम की दुनिया का एक मनहूस नागरिक हूं, चूंकि मैंने एक दुष्ट काम की , मैं यहां से प्रेतलोक में  जन्म लेनी पड़ी ।”

सारिपुत्त :

३ . “अब आपके शरीर, वाणी, या मन के साथ कौन सा बुरा काम किया गया था? आप किस कार्य के कारण प्रेत  की दुनिया में चले गए हैं?”

प्रेती :

४ . “आदरणीय महोदय, मेरे पास कोई भी एक दयालु रिश्तेदार, पिता और माता, या यहां तक ​​​​कि अन्य राजा भी नहीं थे जो मुझसे आग्रह करें और बोलें , “अपने दिल में भक्ति के साथ, भिक्षुओं और सन्यासियों  को उपहार दो ।”

५ . “उस समय से ५०० वर्ष तक मैं इसी रूप में भटक रही हूँ , नंगा, भूख प्यास से भस्म हो गई हूँ , यह मेरे  बुरे कर्मों का फल है।”

६ . “ईमानदार दिल से, मैं आपकी पूजा करता हूं, श्रीमान। हे बुद्धिमान, शक्तिशाली, मुझ पर दया करो! जाओ, मेरे नाम पर कुछ उपहार दो, मुझे मेरे दुख से मुक्त करो, आदरणीय श्रीमान!”

७ . “इन शब्दों से सहमत हुई , सारिपुत्त भनतेजी ने  “बहुत अच्छा” कहा। करुणामय सारिपुत्त ने भिक्षुओं को भोजन का एक टुकड़ा, एक मुट्ठी कपड़ा और एक कटोरी पानी दिया और उन्हें दान दिया।”

८ . जब भनतेजी ने प्रेती को पुण्य अनुमोदन किया, तुरंत  ही परिणाम सामने आया और वह दुक से मुक्त हुई । यह पुण्य अनुदान देने  का फल था: भोजन, वस्त्र और पेय.

९ . तब शुद्ध वस्त्राधारी, उत्तम बनारस के वस्त्र, विभिन्न वस्त्र और आभूषण पहने हुए, वह सारिपुत्त के पास गई।

सारिपुत्त :

१० . “ओह! देवी, आप उत्कृष्ट रूप के हैं, आप सुबह के तारे की तरह सभी कारणों को रोशन कर रहे हैं।”

११. “ऐसे रूप के परिणामस्वरूप क्या है? इसके परिणामस्वरूप यहाँ आपका हिस्सा क्या है, और मन में जो कुछ भी सुख हैं, वे आपके हिस्से में क्यों आते हैं?”

१२ . “हे देवी, हे बहुत शक्तिशाली, मैं ने तुम से पूछा, तुम जो मनुष्य बनी थी , ऐसा  क्या अच्छा कर्म किया   है? कैसे आपको ऐसा तेज प्रताप मिला है, जैसे आपकी  तेज सभी दिशाओं  को रोशन करता है?”

प्रेती :

१३.   “मैं, मेरी सब हडि्डयों के साथ, दुर्बल, भूखा, नंगा, और झुर्रीदार त्वचा के साथ थी ; आप दयालु द्रष्टा, यहाँ मेरे दुख में देखा है।

१४ . “जब आपने भिक्षुओं को भोजन का एक टुकड़ा, एक मुट्ठी कपड़ा और एक पानी की बोतल दी, तो आपने  मुझे पुण्य अनुमोदन  दिया।”

१५ . एक ग्रास दान  का फल देखो : आनंद की इच्छा से, मैं कई स्वादों के साथ १००० ०  वर्षों के भोजन का आनंद लेती  हूं।

१६. “देखो, एक  मुट्ठी कपड़ा दान देने  से क्या फल मिलता है: नंदराज के राज्य में जितने कपड़े हैं उतने मिलते हैं !”

१७ . “आदरणीय महोदय, मेरे पास उस से अधिक  वस्त्र और आवरण, रेशमी और ऊनी, सनी और कपास हैं। “

१८  “वे बहुत से और अनमोल हैं, वे आकाश में और भी अधिक लटके हुए हैं; और मैं जो कुछ चाहती हूं पहनती हूं, जो मेरी कल्पना में आथीं  हैं , अपना आप प्रकट होथीं हैं ।”

१९ . “देखो, कटोरे से भी जल दान देने  का फल क्या होता है: चार गहरे, सुसज्जित कमल के कुण्ड भी मिल जाते हैं।

२० . “उनके पास साफ पानी और सुंदर किनारे हैं; वे ठंडे और सुखद सुगंध वाले हैं; वे गुलाबी कमल और नीले कमल से ढके हुए हैं और जल लिली के तंतुओं से भरे हुए हैं।”

जब भगवान बुद्ध  वेलुवन विहार  में प्रवास कर रहे थे, उन्होंने यह कहानी सुनाई।

मगध  में इट्ठकावती  नामक गाँव और दीगरट्टी गाँव में कई लोग रहते थे, जिन्होंने पुनर्जन्मातर विमोचन की गलत फ़हमी रखथे तें।  और बहुत पहले कुछ  एक महिला का ऐसे ही एक परिवार में पुनर्जन्म हुई थी । ऐसी गलत फ़हमी से कई भृंगों और टिड्डों को मारकर वह मरने पर एक प्रेती जन्म लेने के बाद  ५००  वर्षों तक  भूख और प्यास दुख सहन करना पड़ी  । अब हमारा भगवान बुद्ध  तब राजगृह में था, जब वह एक बार फिर उसी परिवार में  इट्ठकावती में पैदा हुई थी। और जब वह ७ -८  साल हुई, एक दिन  गाँव के फाटक के पास ऊँची सड़क पर अन्य लड़कियों के साथ खेल रही थी, तब १२  भिक्षुओं के साथ आदरणीय सारिपुत्त वहाँ से गुजरे और लड़कियों ने उन्हें प्रनाम  करने के लिए जल्दबाजी की। लेकिन वह अश्रद्धापूर्वक वहीं खड़ी रही। फिर सारिपुत्त थेर  ने उनकी  अतीत और भविष्य को समझते हुए और सहानुभूति के साथ अन्य लड़कियों के प्रति उसके रवैये पर टिप्पणी की। उन्होंने उसका हाथ पकड़  लिया और भनतेजी को  श्रद्धांजलि देने के लिए खींच लिया। बाद में प्रसव में मरते हुए वह फिर से प्रेतलोक  में जन्म लीया । और वह रात को सारिपुत्त थेर के पास  प्रकट हुई, और  थेर ने कहा:

१ . “नग्न और घृणित रूप में, आप दुर्बल और दिखाई देने वाली नसों के साथ हैं।। आप पतले हैं, आपकी पसलियों के साथ खड़े हैं, अब आप कौन हैं,आप यहां क्यों हैं?”

प्रेती :

२. “आदरणीय महोदय, मैं एक प्रेती हूं, यम की दुनिया का एक मनहूस नागरिक हूं, चूंकि मैंने एक दुष्ट काम की , मैं यहां से प्रेतलोक में  जन्म लेनी पड़ी ।”

सारिपुत्त :

३ . “अब आपके शरीर, वाणी, या मन के साथ कौन सा बुरा काम किया गया था? आप किस कार्य के कारण प्रेत  की दुनिया में चले गए हैं?”

प्रेती :

४ . “आदरणीय महोदय, मेरे पास कोई भी एक दयालु रिश्तेदार, पिता और माता, या यहां तक ​​​​कि अन्य राजा भी नहीं थे जो मुझसे आग्रह करें और बोलें , “अपने दिल में भक्ति के साथ, भिक्षुओं और सन्यासियों  को उपहार दो ।”

५ . “उस समय से ५०० वर्ष तक मैं इसी रूप में भटक रही हूँ , नंगा, भूख प्यास से भस्म हो गई हूँ , यह मेरे  बुरे कर्मों का फल है।”

६ . “ईमानदार दिल से, मैं आपकी पूजा करता हूं, श्रीमान। हे बुद्धिमान, शक्तिशाली, मुझ पर दया करो! जाओ, मेरे नाम पर कुछ उपहार दो, मुझे मेरे दुख से मुक्त करो, आदरणीय श्रीमान!”

७ . “इन शब्दों से सहमत हुई , सारिपुत्त भनतेजी ने  “बहुत अच्छा” कहा। करुणामय सारिपुत्त ने भिक्षुओं को भोजन का एक टुकड़ा, एक मुट्ठी कपड़ा और एक कटोरी पानी दिया और उन्हें दान दिया।”

८ . जब भनतेजी ने प्रेती को पुण्य अनुमोदन किया, तुरंत  ही परिणाम सामने आया और वह दुक से मुक्त हुई । यह पुण्य अनुदान देने  का फल था: भोजन, वस्त्र और पेय.

९ . तब शुद्ध वस्त्राधारी, उत्तम बनारस के वस्त्र, विभिन्न वस्त्र और आभूषण पहने हुए, वह सारिपुत्त के पास गई।

सारिपुत्त :

१० . “ओह! देवी, आप उत्कृष्ट रूप के हैं, आप सुबह के तारे की तरह सभी कारणों को रोशन कर रहे हैं।”

११. “ऐसे रूप के परिणामस्वरूप क्या है? इसके परिणामस्वरूप यहाँ आपका हिस्सा क्या है, और मन में जो कुछ भी सुख हैं, वे आपके हिस्से में क्यों आते हैं?”

१२ . “हे देवी, हे बहुत शक्तिशाली, मैं ने तुम से पूछा, तुम जो मनुष्य बनी थी , ऐसा  क्या अच्छा कर्म किया   है? कैसे आपको ऐसा तेज प्रताप मिला है, जैसे आपकी  तेज सभी दिशाओं  को रोशन करता है?”

प्रेती :

१३.   “मैं, मेरी सब हडि्डयों के साथ, दुर्बल, भूखा, नंगा, और झुर्रीदार त्वचा के साथ थी ; आप दयालु द्रष्टा, यहाँ मेरे दुख में देखा है।

१४ . “जब आपने भिक्षुओं को भोजन का एक टुकड़ा, एक मुट्ठी कपड़ा और एक पानी की बोतल दी, तो आपने  मुझे पुण्य अनुमोदन  दिया।”

१५ . एक ग्रास दान  का फल देखो : आनंद की इच्छा से, मैं कई स्वादों के साथ १००० ०  वर्षों के भोजन का आनंद लेती  हूं।

१६. “देखो, एक  मुट्ठी कपड़ा दान देने  से क्या फल मिलता है: नंदराज के राज्य में जितने कपड़े हैं उतने मिलते हैं !”

१७ . “आदरणीय महोदय, मेरे पास उस से अधिक  वस्त्र और आवरण, रेशमी और ऊनी, सनी और कपास हैं। “

१८  “वे बहुत से और अनमोल हैं, वे आकाश में और भी अधिक लटके हुए हैं; और मैं जो कुछ चाहती हूं पहनती हूं, जो मेरी कल्पना में आथीं  हैं , अपना आप प्रकट होथीं हैं ।”

१९ . “देखो, कटोरे से भी जल दान देने  का फल क्या होता है: चार गहरे, सुसज्जित कमल के कुण्ड भी मिल जाते हैं।

२० . “उनके पास साफ पानी और सुंदर किनारे हैं; वे ठंडे और सुखद सुगंध वाले हैं; वे गुलाबी कमल और नीले कमल से ढके हुए हैं और जल लिली के तंतुओं से भरे हुए हैं।”

२१ . “मैं अपने हिस्से के लिए खुद का आनंद लेती हूं, खेलती हूं और किसी भी तरह से कोई डर नहीं है। आदरणीय श्रीमान, मैं दयालु द्रष्टा की पूजा करने के लिए दुनिया में आयी हूं।”

२१ . “मैं अपने हिस्से के लिए खुद का आनंद लेती  हूं, खेलती  हूं और  किसी भी तरह से कोई डर नहीं है। आदरणीय श्रीमान, मैं दयालु द्रष्टा की पूजा करने के लिए दुनिया में आयी  हूं।”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.